जागती आंखों से सपने देखो: रेवती रॉय

7 मार्च 2019

किराने का सामान, महत्वपूर्ण दस्तावेज़, कुरियर या कोई अन्य सामग्री हो, पार्सल वितरण की एक नई सेवा ज़रूरत का सामान लोगों के घरों तक पहुंचा रही है. अहम बात यह है कि ‘हे दीदी’ नाम की इस सेवा में हर ज़िम्मेदारी महिलाएं ही संभालती हैं. प्रशिक्षण प्राप्त एजेंट के तौर पर काम करने वाली अधिकांश महिलाएं निम्न आय वाले या ग़रीब परिवारों से आती हैं और यह अवसर उन्हें आर्थिक रूप से सक्षम बना रहा है.

इस पार्सल सेवा को शुरू करने वाली रेवती रॉय ने 2007 में ‘फ़ॉरशी’ नाम से एक टैक्सी सेवा की भी शुरुआत की थी जिसमें सिर्फ़ महिला चालक थीं और वो सेवा विशेष रूप से महिलाओं के लिए ही थी.

अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर यूएन समाचार को रेवती रॉय ने बताया कि लॉजिस्टिक सेक्टर बड़ी संभावनाओं वाला क्षेत्र है और यही सोच कर उन्होंने यह कंपनी शुरू की. उनका कहना है कि इस सेवा के ज़रिए वह महिलाओं को अपने पैरों पर खड़ा होने में मदद भी कर रही हैं.

अवधि
7'32"